शनिवार, 15 फ़रवरी 2020

बिछड़े सभी बारी-बारी


(1)
मंत्री सुखराम जी – अरे रहने दे गिरधारी ! कब तक पैर दबाएगा?
गिरधारी – मालिक हमको पता है कि पीते ही आपको सुस्ती चढ़ती है और बदन दर्द करने लगता है. उस बखत हमारा चम्पी करना और पैर दबाना आपको कितना चैन देता है, क्या हम जानते नहीं हैं?
सुखराम जी – पहले तो तू हमारे उस दुश्मन अंगनेलाल का खासमखास था. क्या उसके भी ऐसे ही पैर दबाता था?
गिरधारी – राम ! राम ! किस मनहूस का नाम ले लिया आपने मालिक ! अब तो रात का खाना भी नसीब नहीं होगा.
सुखराम जी – तो तेरे हिस्से का मुर्ग-मुसल्लम क्या नौकर-चाकरों में बंटवा दूं?
गिरधारी – हें ! हें ! हें ! हुजूर ! आपके घर का तो मैं जहर तक न छोडूं और फिर मुर्ग-मुसल्लम में तो अमृत होता है.
सुखराम जी – बातें बनाने में तो तू उस्ताद है. अच्छा ये बता तूने उस बंदर अंगनेलाल को गच्चा क्यों दिया था?
गिरधारी – हुजूर, उस पाजी के यहाँ मेरी आत्मा बड़ी बेचैन रहती थी. बड़ा घपलेबाज़ था वो. और ऐसा दारूबाज़ कि --
सुखराम जी – घपले तो बर्खुरदार हम भी करते हैं और सुरा-सुन्दरी में तो हमारे प्राण बसते हैं.
गिरधारी – आप तो राजा इन्दर हो ! आप अपनी इन्दर सभा में जो जी चाहे करें, उस टुटपुन्जिए की आपके सामने क्या औक़ात !
सुख राम जी – ऐसी बात है तो फिर निकाल इसी बात पर हमारी हल्का-हल्का सुरूर वाली शैम्पैन !
गिरधारी – जरूर अन्नदाता ! लेकिन थोड़ा चरनामृत हमको भी मिल जाता तो बड़ी किरपा होती.
सुखराम जी – ले भई, तू भी ले ! चीयर्स !
गिरधारी – वो क्या कहते हैं हुजूर, चेयर्स !   
(2)    
सुखराम जी – गिरधारी ! इलेक्शन सर पर आ गया है और तू है कि हाथ पर हाथ धरे बैठा है !
गिरधारी – हुजूर, गिरधारी का काम दिखाई नहीं देता पर सही बखत पर उसका डंका दुस्मन के कानों में बजता जरूर है.
सुखराम जी – तुझको तीस लाख दिए थे उनका क्या किया तूने?
गिरधारी – उस बेनी प्रसाद के एक दर्जन आदमी खरीद लिए हैं और हाँ, सौ बच्चे पिछले एक महीने से –
जीतेगा, भई जीतेगा, सुक्खी भैया जीतेगा !
और
गली-गली में सोर है, बेनी साला चोर है !
पूरे सहर में घूम—घूम कर चिल्ला रहे हैं. आपने तो सुना होगा.
सुखराम जी – अरे भई शोर होता है सोर नहीं ! 
वैसे तेरा काटा तो पानी भी नहीं मांगता. अच्छा ये बता, तू कहीं हमको भी उस तरह तो नहीं काटेगा जैसे कि तूने अंगनेलाल को काटा था?
गिरधारी – सीना चीर के दिखा सकता हूँ मालिक ! उसके अन्दर आपकी ही छबि होगी. मेरी भक्ती की कहानी तो हुजूर अब तक बच्चों की किताबों में आ जानी चाहिए थी.
सुखराम जी – वाह रे मेरे हनुमान जी !
गिरधारी – आप ही हो मेरे जय श्री राम !
(3)
सुख राम जी – गिरधारी ! बेनी प्रसाद के कैंप की क्या खबर है?
गिरधारी – उसके अड्डे में तो हुजूर मातम पसरा है. रोज़ उसका कोई न कोई बन्दा उसे छोड़कर हमारी सेना में आ रहा है. अब तो चूहे तक उसका घर छोड़कर जाने लगे हैं.
सुखराम जी – हट झूठे ! उसकी जन-सभाओं में तो हज़ारों की भीड़ जुटती है.
गिरधारी – उनमें आधे तो हमारे आदमी होते हैं जो इस मौके की फिराक में रहते हैं कि कब उसकी मीटिंग में पथराव किया जाए और कब कोई धमाका !
सुखराम जी – देख भाई ! कैसी भी हिंसा हो, हमारा नाम नहीं आना चाहिए.
गिरधारी – मेरे रहते आपके नाम पर कभी आंच नहीं आ सकती.
सुखराम जी – तेरे जैसे वफ़ादार हों तो फिर हमारी जीत तो पक्की ही है.
गिरधारी – जीत तो सवा सोलह आने पक्की मालिक ! पर ज़रा लठैतों और कट्टेबाज़ों की रसद-पानी के लिए बीस-पच्चीस लाख और मिल जाता ---
सुखराम जी – रसद-पानी में बोतलें भी तो शामिल होंगी?
गिरधारी – हुजूर बोतलें ही तो उनकी गाड़ियों का डीजल-पेट्रोल हैं. ससुरे बिना दारू पिए कोई गलत काम करते ही नहीं हैं.
सुखराम जी – मुबारकपुर की हमारी कल की रैली में भीड़ बहुत कम थी. तूने तो भीड़ इकठ्ठा करने के लिए अपने आदमियों को पैसे भी दिए थे.
गिरधारी – मुबारकपुर में कल दो-तीन मौतें एक साथ हो गई थीं. लोगबाग़ मातमपुर्सी में चले गए थे. आज स्यामनगर में भीड़ का आप जलवा देखिएगा.
सुखराम जी – तू आज श्यामनगर में हादसों को पकड़कर रखना. अगर आज की रैली में भीड़ नहीं जुटी तो फिर तेरी मौत पक्की !
गिरधारी – हें ! हें ! हें ! राम जी के हाथों मारा जाऊंगा तो स्वर्ग ही तो मिलेगा न हुजूर !
(4)
सुखराम जी की धर्मपत्नी कमला देवी – सुनो जी, तुम अपने इस गिरधारी पर बिल्कुल भरोसा मत करना. हमारा छुटका भैया केसू बता रहा था कि इस ससुरे गिरधारी को बेनी प्रसाद ने खरीद लिया है. इस घर के भेदी ने तुम्हारी लंका न ढाई तो कहना !
सुखराम जी – तुम्हारा छुटका भैया केसू चार बार हमको दगा दे चुका है. हमने तो तय कर लिया है कि वो जिसकी भी बुराई करेगा हम उसे अपने नव-रत्नों में शामिल कर लेंगे.  
कमला देवी जी – पछताओगे मंत्री जी ! अगर ऐसे ही विभीषणों पर विश्वास करते रहोगे तो जल्दी ही तुम मंत्री से मुख्यमंत्री तो नहीं, पर संतरी ज़रूर बन जाओगे.
सुखराम जी –
हम को मिटा सके, ये ज़माने में दम नहीं,
हमसे ज़माना ख़ुद है, ज़माने से हम नहीं.
कमला देवी – तुम तो खुदा से भी दो-चार मंजिल ऊपर पहुँच गए हो. इतनी ऊंचाई से जब औंधे मुंह गिरोगे तो हमसे कहोगे –
तुम्हारा छुटका भैया केसू सही कह रहा था.
सुखराम जी – नामुमकिन ! अच्छा चलो शर्त बदते हैं. अगर हम हारे तो तुम्हारा डायमंड सेट पक्का !
कमला देवी – हारने के चार दिन बाद ही तुम जेल में होगे और फिर मुक़द्दमेबाज़ी में तुम्हारा इतना खर्च होगा कि तुम हमको फूलों का एक गजरा भी दिलाने के क़ाबिल नहीं बचोगे.
सुखराम जी – हे भगवान ! ये बेनी प्रसाद की एजेंट को ही तुम्हें हमारी धर्मपत्नी बनाना था?
(5)
सुखराम जी – गिरधारी आज काउंटिंग है. मेरा तो दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा है. तू सच-सच बताना, मैं कहीं हार तो नहीं जाऊंगा?
गिरधारी – मालिक सूरज भले पच्छिम से उग सकता है पर आप हार नहीं सकते. अपना हिसाब पक्का है. आप पचपन हजार वोटों से उस बेनिया को पटकनी देंगे. आप तो अभी से जसन मनाने के लिए बोतल खोल लो.
सुखराम – अच्छा, अच्छा ! अब चुपचाप बैठ !
अरे ! पहले रुझान में तो मैं 100 वोटों से पिछड़ रहा हूँ.
गिरधारी – मालिक ये तो डाक वाले वोट हैं. अब परदेसियों से आप काहे को अंखिया लड़ाएँगे?
सुखराम जी – हाय ! अब तो उस बेनिए के बच्चे की लीड 500 की हो गयी.
गिरधारी – वही डाक वाला वोट ! करीब दो हजार तो होता ही है मालिक. आप काहे को जी हल्का कर रहे हैं? अगले दौर से ही आपकी जीत का डंका बजने लगेगा.
सुखराम जी – ले बज गया जीत का डंका ! वो बेनिया 2500 वोटों से आगे निकल गया.
गिरधारी – हेलो ! भूपिंदर किस एरिया की काउंटिंग चल रही है? क्या कहा उस्मानपुर की? तब तो ठीक है !
उस्मानपुर तो हुजूर के दुस्मनों का एरिया है. स्यामनगर में तो हम उस बेनिया को आठ-दस हजार वोट से पछाड़ेंगे.
सुखराम जी – भाड़ में गया तेरा उस्मानपुर और श्यामनगर ! कमबख्त ! अब उस गधे की लीड बीस हजार की हो गयी है.
गिरधारी – अन्दर की खबर तो आप तक पहुँची ही नहीं है. भूपिंदर का  अभी-अभी फिर से फ़ोन आया है. अब हम बारह हजार वोट से आगे हो गए हैं.
सुखराम जी – सच कह रहा तू? अगर मैं जीत गया तो अपना श्यामनगर वाला बंगला तेरे नाम कर दूंगा.
गिरधारी – मालिक संझा तक आप बंगले की चाबियाँ मुझे देने के लिए तैयार रहिएगा. मैं अब खुद काउंटिंग देखने जा रहा हूँ. आपको पल-पल की खबर देता रहूँगा.
सुखराम जी – ऑल दि बेस्ट गिरधारी ! अच्छी-अच्छी खबर भेजना वरना तेरी गर्दन तेरे धड़ अलग हो जाएगी.
गिरधारी – आप तो बस बंगले की चाबियाँ मुझे सौंपने की तैयारी कीजिए. मैं लौट कर जीत के जसन की तैयारी करता हूँ.
(6)
सुखराम जी – हे भगवान ! उस बेनिए की लीड चालीस हज़ार की हो गयी है और वो गिरधारी का बच्चा न तो ख़ुद फ़ोन कर रहा है और न ही मेरा उठा रहा है.
कमलादेवी – अब किसी का फ़ोन आएगा भी नहीं ! मंत्री जी ! अब आप पचास हज़ार वोटों से पिछड़ रहे हैं.
सुखराम जी – वो श्यामनगर की काउंटिंग ट्रेंड बदल देगी.
कमलादेवी – शुतुरमुर्ग रेत में कब तक मुंह गड़ाए रहेगा? उसकी मौत तो चारों तरफ़ से मंडरा रही है.
केसू – जीजाजी, जीजाजी ! जरा छत पर चलिए ! देखिए आपका गिरधारी जुलूस के आगे कैसे नाच रहा है !
सुखराम जी – मैं न कहता था ! जीत तो हमारी ही होगी ! चल भाई ! छत पर चलकर अपने जश्न का नज़ारा देखते हैं.
केसू – जीजाजी, आपका गिरधारी जुलूस के आगे-आगे नाच तो रहा है पर ये तो देखिए कि उसके हाथ में झंडा कौन सा है ! और उसके पीछे उसकी वानर-सेना कौन से नारे लगा रही है !
सुखराम जी – हाय मर गया ! ये साला गिरधारी उस बेनिए की पार्टी का झंडा लेकर नाच रहा है और उसके पीछे बच्चे पता नहीं क्या-क्या नारे लगा रहे हैं !
केसू – हमको तो ये नारे साफ़ सुनाई दे रहे हैं –
गली-गली में शोर है, सुक्खी साला चोर है !
जीत गया भई जीत गया, बेनी भैया जीत गया !
सुखराम जी – कमला-केसू ! मेरा दिल बैठा जा रहा है. डॉक्टर महरा को बुलाओ !
केसू – जिज्जी ! जीजाजी पहले भी तीन बार हार चुके हैं. इनकी चमड़ी बहुत मोटी है. इनको एक और हार से कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा पर अब भी इनके साथ रहना मुझे बहुत भारी पड़ेगा. मैं भी बेनी भैया के जुलूस में शामिल होकर अपने पुराने पाप धोने जा रहा हूँ.
कमलादेवी – केसू ! हमसे ऐसी गद्दारी?
केसू – मैं तो कहता हूँ जिज्जी कि तुम भी मेरे साथ चलो. जिस नाव में छेद हो गया हो उसे छोड़ना ही अकलमंदी है. मैंने तो बेनी भैया से तुम्हारे बारे में एडवांस में बात भी कर ली है. तुम उनकी पार्टी में आ जाओगी तो वो तुम्हें पार्टी के महिला मोर्चे का जिला-अध्यक्ष बना देंगे.
कमलादेवी – पर भैया ! पति का साथ कैसे छोड़ सकती हूँ?
केसू – आपके इस पति ने तो कितनी औरतों के लिए आपको छोड़ा है. अभी भी मैं इसकी दो-चार गुमनाम महबूबाओं के नाम आपको गिना सकता हूँ.
कमलादेवी – तूने मेरी हिम्मत बढ़ा दी केसू ! इन्होंने मेरी कभी परवाह नहीं की. अब मैं ऐसे हरजाई की नहीं, बल्कि अपने दिल की मानूँगी.
चल केसू !  चलते हैं तेरे बेनी भैया के जुलूस में !
केसू और कमलादेवी एक साथ –
गली-गली में शोर है, सुक्खी साला चोर है !
जीत गया भई जीत गया, बेनी भैया जीत गया !  

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत लाजवाब कहानी.
    राजनीति में कुछ भी हो सकता है.
    जो भी गुत्थी सुलझी हुई लगे, उसको सुलझा न समझा जाए.
    भरोसा की बजाये शक करने वाला व्यक्ति राजनीति में आगे बढ़ सकता है.

    आइयेगा- प्रार्थना

    जवाब देंहटाएं
  2. राजनीति की सटिक पोल खोली हैं आपने, गोपेश भाई। बहुत सुंदर्।

    जवाब देंहटाएं
  3. धन्यवाद ज्योति जी.
    राजनीति में हर डाकू ख़ुद को तब भी वाल्मीकि कहता है जब कि वह डाके डालने का धंधा बदस्तूर जारी रखता है.

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार(१६ -0२-२०२०) को 'तुम्हारे मेंहदी रचे हाथों में '(चर्चा अंक-१३३६) पर भी होगी
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का
    महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    **
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी कहानी को 'तुम्हारे मेहंदी रचे हाथों में (चर्ष अंक - 16-2-20) में सम्मिलित करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद अनीता !

      हटाएं
  5. पीते हैं नहीं। मजे पूरे ले रहे हैं पीने के पिलाने के :)। लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद सुशील बाबू.
      बच्चन जी ख़ुद नहीं पीते थे फिर भी उन्होंने सबके लिए मधुशाला खोल दी थी. हमने तो बस, एक बोतल खुलवाई है.

      हटाएं

  6. जय मां हाटेशवरी.......

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    16/02/2020 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    http s://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'पांच लिंकों का आनंद' ब्लॉग में मेरी कहानी को सम्मिलित करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद कुलदीप ठाकुर जी. आप सबका प्यार यूँ ही मिलता रहे, भगवान से यही दुआ है.

      हटाएं
  7. आप पर सुखरामजी के द्वारा मान हानि का केस तो बनता है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. विश्वमोहन जी, उन से कहिए कि वो मुझ पर जल्दी से जल्दी मानहानि का केस दायर करें. जेल जाने के बाद फिर जब 'मान' रहेगा ही नहीं तो फिर मानहानि का केस बनेगा किस आधार पर?

      हटाएं
  8. पूरा कच्चा चिट्ठा लिख दिया आपने तो !!!
    प्रणाम !!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मीना जी,
      पोल-खोल कांड रूपी प्याज़ का तो यह सिर्फ़ ऊपरी छिलका है.

      हटाएं
  9. बेहतरीन सृजन सर।राजनीति में चोर ही दूसरे को चोर कहते फिरते हैं।नमस्कार।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद सुजाता जी.
      अब वक़्त आ गया है कि हम मतदाता अगर इन चोरों के हाथों में हथकड़ियां न भी पहना सकें तो कम से कम इतना तो करें कि उनके हाथों में अपनी किस्मत न सौंपें.

      हटाएं
  10. जी सर जनता को जागरुक होना ही चाहिए।सादर नमन।

    जवाब देंहटाएं
  11. अधिकांश जनता तो दिन में भी सपने ही देखती है.

    जवाब देंहटाएं
  12. शानदार व्यंग्य कहानी

    जवाब देंहटाएं