रविवार, 1 नवंबर 2020

शेर किसी और का, अंदाज़ अपना

चोरी न करें झूठ न बोलें तो क्या करें

चूल्हे पे क्या उसूल पकाएँगे शाम को

अदम गौंडवी

प्रगति-मार्ग –

चोरी न करें झूठ न बोलें तो क्या करें

कुर्सी-तलक यही हमें पहुँचाएं सीढ़ियाँ

इक बार मौक़ा जो मिले इतना बटोर लो

अम्बानी-अडानी सी जियें सात पीढ़ियाँ

 

यहाँ हर शख्स बस ये चाहता है

मिलाएं सब घड़ी मेरी घड़ी से

दानिश ज़ैदी

जनतंत्र के संरक्षकों का सपना –

 ये है जनतन्त्र पर दिल चाहता है

मिलाएं सब घड़ी मेरी घड़ी से

इबादत ही मेरी काफ़ी नहीं है

मुहब्बत भी करें मेरी छड़ी से 

18 टिप्‍पणियां:

  1. वाह !
    मुहब्बत भी करें मेरी छड़ी से !!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद मीना जी.
      लूटने-पीटने वाले से मुहब्बत करने का अपना मज़ा है.

      हटाएं

  2. जय मां हाटेशवरी.......

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    02/11/2020 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......


    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    https://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'पांच लिंकों का आनंद' के 2-11-20 के अंक में मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद कुलदीप ठाकुर जी.

      हटाएं
  3. प्रशंसा के लिए धन्यवाद डॉक्टर रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' !

    जवाब देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. मेरी काव्यात्मक गुस्ताखी की प्रशंसा के लिए धन्यवाद विभा जी.

      हटाएं
  5. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार 3-11-2020 ) को "बचा लो पर्यावरण" (चर्चा अंक- 3874 ) पर भी होगी,आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'बचा लो पर्यावरण' (चर्चा अंक - 3874) में प्रदूषित राजनीतिक पर्यावरण पर लिखी गयी मेरी गुस्ताखी को सम्मिलित करने लिए बहुत-बहुत धन्यवाद कामिनी जी.

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद अमृता तन्मय !

      हटाएं
  7. कड़वी वास्तविकता के दर्शन कराती सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद ज्योति.
      जब भी मैं कोई अच्छी रचना पढता हूँ, मेरा खुराफाती दिमाग उसे फ़ौरन सियासती व्यंग्य का मोड़ देने की सोचने लगता है.

      हटाएं