शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2015

पर्वत महिमा


पहाड़ पर 31 साल से भी अधिक समय का मेरा प्रवास खट्टी-मीठी यादों से भरा हुआ है. पर्वतवासियों का भोलापन, उनकी सादगी, उनकी बेफिक्री और अपनी संस्कृति से उनका जुड़ाव हम सब के लिए अनुकरणीय है पर उनका मदिरा प्रेम, उनकी अकर्मण्यता, उनकी परमुख-कातरता हम सभी पर्वत प्रेमियों को व्यथित करती है. मैंने यह कविता 1986 में लिखी थी और एक कवि सम्मेलन में इसका पाठ किया था. हिंदी और कुमायुंनी के प्रसिद्द कवि स्वर्गीय बालम सिंह जनौटी को मेरी कविता बहुत पसंद आई थी पर उन्होंने मुझसे आग्रह किया था कि मैं- ‘यहाँ स्वर्ग वासी बसते हैं’, पंक्ति कविता से हटा दूँ पर मैंने इस पंक्ति को नहीं हटाया क्यूंकि मेरा दिल ऐसा करने की मुझे अनुमति नहीं दे रहा था. पर मुझे पर्वतवासियों की नयी पीढ़ी पर यह विश्वास है कि एक दिन वह पहाड़ को वास्तव में जीवंत स्वर्ग बनाकर मुझे अपनी कविता से यह विवादास्पद पंक्ति हटाने के लिए विवश कर देगी.                   
पर्वत महिमा -
यह पहाड़ है,
गोल घूमती सड़क यहां हैकलकल बहती नदी यहां है।
ठन्डी मन्द बयार यहां हैहिम से मण्डित शिखर यहां है।
स्वर्ण लुटाती सुबह यहां है, कुमकुम जैसी शाम यहां है।
देवदार वृक्षों से सज्जित, स्वयं धरा का स्वर्ग यहां है।
पर इनमें इन्सान कहां हैहर मन में श्मशान यहां है।
हाला, प्याला छोड़प्रेम रस डूबेऐसा मीत कहां है?
ख़ैरातों पर कटे जि़न्दगीस्वाभिमान की रीत कहां है?
मुर्दा दिल में जान फूंक देओज भरा वह गीत कहां है?
यहां मृत्यु के आर्तनाद मेंजीवन का संगीत कहां है?
यह पहाड़ है,
पर पहाड़ हैविपदाओं कानिर्बलता का,
फ़ाकोंआहोंनिर्धनता का
दुर्व्यसनों कानिर्वासन का,
 कलुषित, व्यभिचारी शासन का।
स्वर्ग लोक सा यह पहाड़ हैयहां स्वर्ग वासी बसते हैं।
जीते जी तिल-तिल मरते हैंमहा शाप से मुक्ति मिल सके,
नित्य यही पूजा करते हैं।
यह पहाड़ है,
मानवता का तिरस्कार हैकिन पापों का पुरस्कार है?
जहां जि़न्दगी ख़ुद पहाड़ होउस पहाड़ को नमस्कार है।
उसे दूर से नमस्कार हैबहुत दूर से नमस्कार है।

मेरा शत-शत नमस्कार हैमेरा शत-शत नमस्कार है।। 

2 टिप्‍पणियां:

  1. पहले लखनऊ में बैठ कर इसी तरह की कविता पढ़ी जाती थी और अब पर्वतीय राज्य बना कर कविता पाठ करने वालों को देहरादून बैठा दिया गया है ताकि आवाज दूर पहाड़ से टकरा टकरा कर लौट भी सके पाठ करने वालों के कानो में ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मियां तारीफ़ कर रहे हो या टांग खींच रहे हो? जयशंकर प्रसाद ने कहा है - 'मुख कमल समीप सजे थे, दो किसलय सेपुरइन के, जलबिंदु सदृश कब ठहरे, इन कानों में दुःख किनके.' (कमल के पत्ते पर पानी नहीं ठहरता) हमारी व्यथा हम तक ही रिफ्लेक्ट कर दोगे तो जल्दी ही मंत्री-पद प्राप्त कर लोगे.

    उत्तर देंहटाएं