शनिवार, 26 सितंबर 2020

धीरज की परीक्षा

 सेठ जी (अपनी धर्मपत्नी से) : प्रिये ! इस लॉकडाउन में मेरा धंधा बिलकुल चौपट हो गया है. मुझे अपने धंधे को फिर से पटरी पर लाने लिए पचास लाख रुपयों की सख्त ज़रुरत है.

तुम्हारे अकाउंट में तो दो करोड़ रूपये फ़ालतू पड़े हैं. तुम अगर पचास लाख रुपयों की मदद कर दो तो मैं बर्बाद होने से बच जाऊंगा.
गोस्वामी तुलसीदास ने कहा है -
धीरज धर्म मित्र अरु नारी।
आपद काल परिखिअहिं चारी॥
तुम तो धार्मिक भी हो. मेरी मित्र भी हो और एक महान नारी तो हो ही.

मुझे विश्वास है कि तुम मेरे इस आपद काल में मेरी मदद कर के तुलसीदास जी की इस कसौटी पर खरी उतरोगी.

धर्मपत्नी : प्राणनाथ ! तुलसीदास जी ने धर्म, मित्र और नारी से पहले 'धीरज' का उल्लेख किया है.
आप आपदकाल के समय - धर्म, मित्र और नारी को परखना भूल जाइए और केवल अपने धीरज को परखिए.
Like
Comment
Share

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (27-09-2020) को    "स्वच्छ भारत! समृद्ध भारत!!"    (चर्चा अंक-3837)    पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी व्यंग्यात्मक पोस्ट को 'स्वच्छ भारत समृद्ध भारत' (चर्चा अंक - 3837) में सम्मिलित करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद डॉक्टर रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' !

      हटाएं
  2. भाभी जी ने ऐसा तो नहीं कहना चाहिये था नहीं देती कोई बात नहीं थी :)

    जवाब देंहटाएं
  3. ख़ुदा जब माल देता है, कंजूसी आ ही जाती है.

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! आदरणीय सर आपने भविष्य को अंकित किया है आज तो नहीं परंतु आने वाला समय शायद कुछ ऐसा ही कहेगा ।
    बेहतरीन आपकी क़लम बोलती है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. अनीता, ऐसा ज़माना आ चुका है. आत्मकेंद्रित होना आज व्यावहारिक माना जाता है. अब मुसीबत में तो अपना साया भी साथ छोड़ देता है फिर पत्नी या पति अगर ऐसा करे तो क्या आश्चर्य !

    जवाब देंहटाएं
  6. सत्य कहा सर ! पैसे के साथ कंजूसी आ ही जाती है ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मीना जी, यहाँ अपना हाल कुछ दूसरी तरह का है. पैसा आए या न आए, अपनी कंजूसी क़ायम है.

      हटाएं
  7. आदरणीय गोपेश मोहन जैसवाल जी, नमस्ते 👏! आपकी यह लघुकथा बहुत कुछ अनकहे भी कह रही है। लघुकथा के मानकों पर खरी उतरती है। साधुवाद!--ब्रजेन्द्रनाथ
    मैंने आपका ब्लॉग अपने रीडिंग लिस्ट में डाल दिया है। कृपया मेरे ब्लॉग "marmagyanet.blogspot.com" अवश्य विजिट करें और अपने बहुमूल्य विचारों से अवगत कराएं।
    आप अमेज़ॉन किंडल के इस लिंक पर जाकर मेरे कविता संग्रह "कौंध" को डाउनलोड कर पढ़ें।
    https://amzn.to/2KdRnSP
    आप मेरे यूट्यूब चैनल के इस लिंक पर मेरी कविता का पाठ मेरी आवाज में सुनें। मेरे चैनल को सब्सक्राइब करें, यह बिल्कुल फ्री है।
    https://youtu.be/Q2FH1E7SLYc
    इस लिंक पर कहानी "तुम्हारे झूठ से मुझे प्यार है" का पाठ सुनें: https://youtu.be/7J3d_lg8PME
    सादर!--ब्रजेन्द्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद ब्रजेन्द्रनाथ जी !
      मैं आपकी रचनाओं का आनंद समय मिलते ही मैं अवश्य लूँगा. इधर कुछ ज़्यादा ही व्यस्त हूँ.

      हटाएं