मंगलवार, 21 सितंबर 2021

सर ए० ओ० ह्यूम का विलाप

 सर ए० ओ० ह्यूम का विलाप –

(सूरदास के पद – ‘तुम पै कौन दुहाबै गैया’ की तर्ज़ पर)

कांग्रेस की डूबत नैया
मात-सपूत जबर जोड़ी जब जाकी बनी खिवैया
दल के नेता संकेतन पै नाचैं ताता थैया
प्रतिभा-भंजक युवा-बिरोधी घर-घर फूट पडैया
आतम बानी बेद-बचन सम और न कछु सुनवैया
लोकमान्य गांधी नेहरु की संचित पुण्य मिटैया
ह्यूमदास प्रभु किरपा कीजो तुमहिं मुक्ति दिलवैया
नोट: ऐसा विलाप किसी भी राजनीतिक दल का संस्थापक कर सकता है. बस, हमको राजनीतिक दल के संस्थापक का नाम, राजनीतिक दल का नाम और उसे संचालित करने वाली जुगल-जोड़ी के नाम बदलने होंगे

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 22सितंबर 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद!
    !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'पांच लिंकों का आनंद' में मेरी काव्य-रचना को सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद पम्मी सिंह जी.

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. 'हां हां हां !' के लिए धन्यवाद संगीता स्वरुप (गीत) जी.

      हटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (22-09-2021) को चर्चा मंच       ‘तुम पै कौन दुहाबै गैया’  (चर्चा अंक-4195)  पर भी होगी!--सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार करचर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।--हिन्दी दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'तुम पै कौन दुहाबै गैया' (चर्चा अंक - 4195) में मेरी काव्य-रचना को सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद डॉक्टर रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' !

      हटाएं
  4. वर्तमान स्थिति पर बहुत ही सटीक लेखन।

    जवाब देंहटाएं
  5. धन्यवाद ज्योति !
    हम, तुम या कोई भी, इन चिकने घड़ों के बारे में कुछ भी कहे, कुछ भी लिखे, इन पर रत्ती भर भी असर नहीं होता.

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. मेरी गुस्ताखी के उदार आकलन के लिए धन्यवाद कविता जी.

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद सुनीता अग्रवाल 'नेह' जी.

      हटाएं
  8. प्रशंसा के लिए धन्यवाद कुसुम जी.
    अगर आप सुधी पाठकों का स्नेह बना रहे और हमारे नेताओं की मक्कारियां, छल-कपट भी आबाद रहे तो मेरी लेखनी ऐसी खुराफ़ातें करती रहेगी.

    जवाब देंहटाएं
  9. अब तक एओ हुयूम चार जन्म लेकर निहाल हो चुके होंगेमारक व्यंग्य के साथ रोचक पद 👌👌👌👌🙏🙏🙏🌷🌷

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रेणु, ए० ओ० ह्यूम चाहे चार जन्म लें या फिर चार सौ बार!
      पिज़्ज़ा मम्मी और पप्पू भैया की हुकूमत रहते तो वो कांग्रेस का पुनरोद्धार नहीं देख पाएंगे.

      हटाएं