शनिवार, 28 दिसंबर 2019

2019 का आख़िरी तराना

मज़हब नहीं सिखाता, दूजे का, खून पीना,
कांटे भी जानते हैं, फूलों के संग, जीना.

कथनी में हम बताते, आपस में मेल करना,
करनी में सिर्फ़ भाता, लड़ना हो या कि डरना.
सारे जहाँ में होता, चर्चा यही, हमारा,
नाथू के फ़लसफ़े से, गांधी-संदेस, हारा.
दंगल का है अखाड़ा, हिन्दोस्तां, हमारा,
क्यों जन्म लें यहाँ पर, हम भूल कर, दुबारा.
सारे जहाँ से ------

12 टिप्‍पणियां:

  1. "कांटे भी जानते हैं, फूलों के संग, जीना"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. राकेश कौशिक जी,
      हम फूल और काँटे की तरह - ६३ का आंकड़ा तो जानते ही नहीं, हमको तो सिर्फ़ - ३६ का आंकड़ा आता है.

      हटाएं

  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार(२९-१२ -२०१९ ) को " नूतनवर्षाभिनन्दन" (चर्चा अंक-३५६४) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    **
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'नूतन वर्षाभिनंदन' (चर्चा अंक - 3564) में मेरी कविता को सम्मिलित करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद अनीता. आप लोगों का प्यार और प्रोत्साहन मेरी लेखनी को नित नई ऊर्जा देता है.

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति। मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रशंसा के लिए धन्यवाद नितीश जी.
      इस कविता को सिर्फ़ पढ़ना ही नहीं है, बल्कि इस में उठाई गयी बातों पर गौर भी करना है.

      हटाएं
  4. अगली बार पहले से पाकिस्तान में पैदा हो लेंगे। हा हा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. पाकिस्तान में मनुष्य योनि में पैदा होने से तो बेहतर होगा कि हम भारत में ही छिपकली योनि में या उलूक योनि में पैदा हो जाएँ.

      हटाएं
    2. मतलब हमारा जो करोगे यहींं करोगे?

      हटाएं
  5. एनकाउंटर स्पेशलिस्ट्स क्या हाथ आए शिकार का कहीं और ट्रांसफ़र करते हैं?

    जवाब देंहटाएं
  6. होता है यहाँ हर रोज़ एक नया नजारा.. बेहतरीन रचना आदरणीय 👌👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद अनुराधा जी !
      कवि शैलेन्द्र हमारे दिल से निकली आह को महसूस कर के लिख गए है -
      ऐ मेरे, दिल कहीं और चल,
      गम की दुनिया से, दिल भर गया,
      ढूंढ़ ले अब कोई, घर नया ---

      हटाएं