शनिवार, 13 फ़रवरी 2021

इक्कीसवीं सदी के इक्कीसवें साल के आंसू – भाग – 2

 

इक्कीसवीं सदी के इक्कीसवें साल के आंसू भाग – 2

(श्री जयशंकर प्रसाद से क्षमा-याचना के साथ)

  

ना खाऊँ ना खाने दूं

यह कथन सत्य बिन खटका 

बिन पत्र-पुष्प अर्पण के

हर काम अधर में लटका

 

वाणी में मिसरी घुलती

पर पेट ज़हर का मटका

कुछ तो हलाल-गति पाए

कुछ का कर डाला झटका

 

रुक-रुक कर घिसट-घिसट कर

चलती है प्रगति कहानी

दिन-रात फलें और फूलें 

अम्बानी और अडानी

 

बचपन अभाव में बीता  

फाकों में कटी जवानी

इस लोकतंत्र की सूरत

मर कर हमने पहचानी

6 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ लोग तो मरकर भी पहचान नहीं रहे।
    गजब और बिंदास।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही बात है रोहतास. हम धोखे में ही जीते हैं और धोखे में ही मर जाते हैं.

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (14-02-2021) को "प्रणय दिवस का भूत चढ़ा है, यौवन की अँगड़ाई में"   (चर्चा अंक-3977)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --
    "विश्व प्रणय दिवस" की   
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-    
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रणय-दिवस का भूत चढ़ा है' (चर्चा अंक 3977) में मेरी व्यंग्य-रचना को सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद डॉक्टर रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' !

      हटाएं
  3. कई समसामयिक प्रसंगों को रेखांकित करती रचना..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जिज्ञासा, मेरी व्यंग्य-रचना के ऐसे उदार आकलन के लिए धन्यवाद !

      हटाएं